हार्दिक पंड्या की मुंबई इंडियंस में वापसी का सबसे सरल व्याख्यान: क्या इसमें ट्रांसफर फीस शामिल है? आईपीएल में व्यापार कैसे काम करते हैं? | क्रिकेट समाचार

NeelRatan

हार्दिक पंड्या की मुंबई इंडियंस में वापसी की व्याख्या: क्या इसमें ट्रांसफर फीस शामिल है? आईपीएल में ट्रेड कैसे काम करते हैं? | क्रिकेट समाचार



Hardik Pandya को गुजरात टाइटन्स से मुंबई इंडियंस में ट्रेड किया गया। एक IPL फ्रैंचाइज़ी कितने प्रकार के खिलाड़ी ट्रेड कर सकती है और एक ट्रांसफर फीस से खिलाड़ी कितना लाभ उठा सकता है?

एक IPL फ्रैंचाइज़ी कितने प्रकार के ट्रेड कर सकती है?

दो प्रकार के ट्रेड होते हैं। एक-तरफ़ा ट्रेड तब होता है जब एक फ्रैंचाइज़ी दूसरी IPL टीम से एक या एक से अधिक खिलाड़ियों को खरीदती है। फिर है दो-तरफ़ा ट्रेड जिसमें टीमें खिलाड़ियों को एक-दूसरे के साथ बदलती हैं। एक-तरफ़ा ट्रेड और दो-तरफ़ा ट्रेड दोनों के लिए खिलाड़ी की सहमति की आवश्यकता होती है।

एक-तरफ़ा ट्रेड कैसे काम करता है?

अगर किसी खिलाड़ी को दूसरी IPL टीम से प्रस्ताव मिल रहा है, तो वह अपनी मौजूदा टीम को बता सकता है कि वह ट्रेड करने में रुचि रखता है। एक फ्रैंचाइज़ी की ओर से भी एक खिलाड़ी को बेचने का निर्णय किया जा सकता है जब उसे क्रिकेटर की सहमति लेने के बाद। दोनों स्थितियों में, खिलाड़ी और उसकी मौजूदा IPL टीम के बीच ट्रांसफर फीस पर चर्चा की जाती है। उदाहरण के लिए, जब हार्दिक पांड्या गुजरात टाइटन्स से मुंबई इंडियंस में चले गए, तो खिलाड़ी और गुजरात टाइटन्स द्वारा एक ट्रांसफर फीस तय की जाती होगी।

क्या खिलाड़ी ट्रांसफर फीस से कमाई करता है?

हाँ। खिलाड़ी ट्रांसफर फीस से एक निश्चित प्रतिशत कमा सकता है। BCCI के पास ट्रांसफर फीस पर कोई सीमा नहीं है। खिलाड़ी को ट्रांसफर फीस के प्रतिशत के लिए मांग करने का अधिकार होता है। उदाहरण के लिए, अगर एक खिलाड़ी की ट्रांसफर फीस 30 करोड़ रुपये है, तो खिलाड़ी अपनी पूर्व टीम से 20 प्रतिशत यानी 6 करोड़ रुपये मांग सकता है। यह एक बार की भुगतान होगी। जब ट्रांसफर समझौता हो जाता है, तो यह BCCI को भेजा जाता है। खिलाड़ी जिस टीम में जा रहा है, वह ट्रांसफर फीस को उस टीम को भुगतान करती है जिसने खिलाड़ी को छोड़ा है। अबतक हार्दिक की ट्रांसफर फीस का खुलासा नहीं हुआ है।

क्या टीमें खिलाड़ियों को रिलीज़ कर सकती हैं और खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती हैं?

हाँ, टीमें खिलाड़ियों को रिलीज़ कर सकती हैं और वे नीलामी पूल का हिस्सा होंगे। वे खिलाड़ियों को रिटेन भी कर सकती हैं। उदाहरण के लिए, कोलकाता नाइट राइडर्स ने एंड्रे रसेल और सुनील नरायण जैसे ऑलराउंडर्स को रिटेन किया है। वहीं, KKR ने बांगलादेश के कप्तान शाकिब अल हसन, भारतीय ऑलराउंडर शार्दुल ठाकुर और न्यूजीलैंड के फास्ट बॉलर टिम सौथी जैसे खिलाड़ियों को रिलीज़ किया है। राजस्थान रॉयल्स ने इंग्लैंड के टेस्ट क्रिकेट बैटिंग स्टार जो रूट को रिलीज़ किया है, जो IPL 2024 से बाहर निकल गया।

एक टीम जो एक टीम से दूसरे टीम में जाने वाले खिलाड़ी को किसे भुगतान करती है?

उदाहरण के लिए हार्दिक के मामले में, मुंबई इंडियंस को उसके 15 करोड़ रुपये के वार्षिक शुल्क का भुगतान करना होगा, जो गुजरात टाइटन्स ने मेगा ऑक्शन के पहले उनकी सेवाओं के लिए किया था।

तो टीम एक ऐसे खिलाड़ी को खरीदने के लिए पैसे कहां से लाती है जिसे उसे ट्रेड किया गया है?

पिछले साल के मेगा ऑक्शन के लिए प्रत्येक टीम के पास 95 करोड़ रुपये का पर्स था। इस साल एक मिनी-ऑक्शन है, जिसमें कुल बजट में 5 करोड़ की वृद्धि हुई है। मुंबई इंडियंस ने पिछले साल 94.5 करोड़ रुपये खर्च किए थे। इसलिए उनके पास आगामी ऑक्शन के लिए केवल 5.50 करोड़ रुपये हैं। लेकिन क्योंकि MI ने जोफ़रा आर्चर और कैमरन ग्रीन जैसे तेज गेंदबाजों को छोड़ दिया है, इसलिए उनके पास हार्दिक को खरीदने के लिए पैसे होंगे और ऑक्शन में टीम को मजबूत करने के लिए पैसे होंगे।


Leave a Comment